Blog knowledge, Tech, Best Apps review, all information

Breaking

Thursday, 28 May 2020

CTC full form kya h puri jankari hindi me

CTC full form kya h puri jankari hindi me

CTC full form in hindi

Hello friends आज के इस आर्टिकल में हम आपको ctc के full form क्या है इसके साथ कि ctc के बारे में details में चर्चा करेंगे हम जानेगे की ctc क्या है, ctc ओर salary में क्या अंतर है, ctc को कहा पर और किस तरह से use किया जाता है इन सभी सवालों के जवाब पाने के लिए इस article को पूरा पढ़े...


CTC kya hai

CTC को हम इस तरह से समझ सकते है कि जब भी हमे नौकरी चाहिए होती है तो हम किसी कंपनी में interview के लिए जाते है interviwe के last होने तक आपसे एक question किया जाता है के आप कितना salary पैकेज लेगे ऐसे में जो कंपनी होती है उसने अपना एक HR department बनाया होता है ।

जो कि कर्मचारियों के हिट में काम करने के लिए बनाया जाता है लेकिन जब ये HR department अपनी कंपनी के लिए किसी भी व्यक्ति का interview लेते है तो जो व्यक्ति उनके कंपनी के लिए सही होता है उसे चुन लेते है और interview के दरम्यान ही उनसे ये पूछ लिया जाता है कि आप कितना salary पैकेज लेगे ऐसे में ये केवल सैलरी ही नही होती है ।

यह कंपनी के द्वारा उस व्यक्ति को नौकरी देने में जितना भी खर्च हुआ वो भी सामिल होता है। इसके साथ ही और भी बहुत सारे जो भी allowns कर्मचारी को दिए जाने है जैसे कि DA, PF, travell, medical, आदि जो भी भत्ते देने होते है वो सब भी salary पैकेज में ही जोड़ कर रखा जाता है। इसलिए हमें ctc को सैलरी समझने की भूल नही करनी चाहिए।

CTC full form kya hai


CTC full form, cost to the company होता है इसको हम आसानी से ऐसे समझ सकते है कि एक किसी कर्मचारी को कंपनी के लिए नौकरी देने तक जितना भी खर्च होता है उसे ही cost to company कहा जाता है ।

इसमें उस व्यक्ति द्वारा कंपनी के द्वारा दिए गए सारे भत्ते जैसे DA, PF, और भी सारे allowns जो कंपनी के द्वारा दिए जाते है, कर्मचारी के पिये गए चाय, फंखे जो उसके पास लगे हो, बल्ब आदि जैसे छोटी- छोटी चीजो का उस कर्मचारी द्वारा use किए जाने पर उस का भी पैसा जोड़ लिया जाता ctc में ही जिससे मिलने वाले सैलरी में से सारा cost को काटने के बाद ही सैलरी दिया जाता है।

CTC or salary me kya different hai


CTC  वो है जिसे कंपनी के लिए किसी भी कर्मचारी को चुनने के बाद उसे नौकरी देने कर्मचारी बनाने तक जितना भी पैसा खर्च होता है वो सब cost to the company के अंदर ही जोड़ा जाता है। इसमें कर्मचारी द्वारा कंपनी से उठाए गए हर छोटे से छोटे और बढ़े से बढ़े काम मे जितना भी पैसा लगता है सब कुछ HR department द्वारा ctc में ही जोड़ लिया जाता है ।

सैलरी वो है जिसे किसी भी कर्मचारी द्वारा किये गए पूरे महीने के लास्ट में उसके काम और कौशल के हिसाब से ctc काटने के बाद में जो भी पैसा दिया जाता है वो पैसा ही सैलरी कहलाता है।

No comments:

Post a comment